Rashtriya Kisan Andolan

राष्ट्रीय किसान आंदोलन का है प्रयास

"कैसे हो खुशहाल "कृषि ,गाँव और किसान

राष्ट्रीय किसान आंदोलन की स्थापना ही ,कृषि ,गाँव और किसान को केन्द्र बिंदु में रखकर किया गया है ! भारत गाँवों का देश है ,गाँवों में किसान और मजदूर किसान व उनका परिवार रहता है ,पर उनकी दशा और दिशा अस्थिर होकर रह गयी है कुछ चंद किसान के शोषकों के द्वारा , जिससे किसान निपटने में खुद को असक्षम पाने लगा और राजनैतिक दलों का शिकार होकर सिर्फ वोट बैंक बनकर रह गया है तदुपरांत अपने मूल (खेती किसानी) से बहुत दूर होता जा रहा है , जिससे आर्थिक तंगी से परेशान होकर खुदकुशी को मजबूर और किसान परिवार के युवक और युवतिया बेरोजगारी का दंश झेल रहे हैं और गाँव का अस्तित्व खतरे में पड़ता जा रहा है , रोजगार की तलाश में शहरों की तरफ़ होने वाले पलायन की वजह से अपने देश को वास्तविकता से दूर होते हुए पाया जाने लगा । इन आसुरी ताकतों से निपटने के लिये ही राष्ट्रीय किसान आंदोलन के द्वारा गाँव स्तर पर किसानों का संगठन बनाने व गाँव में ही अपना रोजगार स्थापित करके किसान व मजदूर किसान परिवार को समृद्ध एवम खुशहाल करने का कार्य शुरू किया जा रहा है ॥ राष्ट्रीय किसान आंदोलन कृषि ,गाँव और किसान को हर ओर से सम्पन्न करने का अपना सकरात्मक प्रयास करने को बाध्य है ,जिससे अपने देश को पुनः सोने की चिड़िया बनाया जा सके जो आज हम कहानी में पढ़ते हैं ॥
जय होगी किसान की ||
 

2 thoughts on “Rashtriya Kisan Andolan

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *