Hands-of-farmers-family-holdin-sapling

वृक्षों के बिना जीवन जीने का सोचना एक कोरी कल्पना है|

Posted on Leave a commentPosted in Blog

हमारे जीवन में वृक्षों का भी एक महत्वपूर्ण स्थान है परंतु आधुनिक सोच और लोगो के गिरते बौद्धिक स्तर का दुष्परिणाम रहा है कि आज हर जीव जन्तु पर्यावरण के असंतुलित होने का गवाह बनता जा रहा है ,असमय जलवायु परिवर्तन और आते जा रहे जल संकट इसके ताजा उदाहरण हैं ।पहले बहुत मात्रा में […]

ob-ou052_india0_h_20110719023729

कृषि और किसान की ऐसी दुर्दशा क्यों और कब तक बर्दाश्त किया जाय ||

Posted on 2 CommentsPosted in Blog

कभी देश की अर्थव्यवस्था की रीढ़ कहीँ जाने वाली कृषि आज अपनी बदहाली पर आँसू बहातीं नज़र आ रहीं है और अन्नदाता (किसान) सरकर की दोगली नीतियों के चलते अपनी लाचारी पर खुद को कोसता हुआ जिंदगी को बोझ बना बैठा है ,आखिर किसान की समस्याओं का समाधान क्यों नही किया जा रहा है जिससे […]

SRI_Weeding

जल है तो कल है !!!!

Posted on Leave a commentPosted in Blog

आज की सबसे ज्वलंत समस्या जो है वह है भूगर्भ के जल स्तर की कमी और साल दर साल पड़ने वाले सूखे जिससे कि सबसे ज्यादा प्रभावित कोई होता है, तो वह है किसान और ग्रामीण अंचल ,परंतु यह समस्या सिर्फ एक दिन में तो खड़ी हुई नही होगी ? क्योंकि यह सत्य है कि […]

turnagpur

किसानों को चाहिये लागत के साथ पूरा पूरा लाभ

Posted on Leave a commentPosted in Blog

राष्ट्रीय किसान आंदोलन के संयोजक श्री नीरज राय ने कहा कि गाँव ,किसान और कृषि की अनदेखी का ही दुष्परिणाम है कि किसान खेतों से दूर भाग रहा है शहरों की तरफ़ और जो बचे हैं वो खेतों में खेती करते हुए कर्जे के बोझ तले दम तोड़ने को मजबूर है और किसान परिवार खुद […]

12814509_770390469758987_3682909561351506741_n

राष्ट्रीय किसान आंदोलन की मजबूती पर चर्चा

Posted on Leave a commentPosted in Blog, News

      आज होटल ली मेरिडियन (दिल्ली) में बड़े भाई श्री सुखबीर सिंह हुड्डा( हरियाणा )के साथ राष्ट्रीय किसान आंदोलन के विस्तार हेतु विस्तृत चर्चा हुई ॥मेरे द्वारा किसान,कृषि और गाँव के बारे में विधिवत परिचर्चा करने के बाद सुखबीर जी ने इस आंदोलन को नया आयाम प्रदान करने की कूछ युक्ति भी हमे […]